समस्यामुक्ति व आध्यात्मिक शक्ति जगाने का मौका अधिमास

58
समस्यामुक्ति व आध्यात्मिक शक्ति जगाने का मौका अधिमास
अधिमास में विष्णु व उनके अवतारों की उपासना अधिक फलदायी होती है।

Golden Opportunity in Adhimas: समस्यामुक्ति व आध्यात्मिक शक्ति जगाने का सुनहरा मौका है अधिमास। अधिमास 18 सितंबर से 16 अक्टूबर 2020 तक रहेगा। इस दौरान कोई भी मंत्र जप उपयोगी होता है। यदि विष्णु व उनके रूपों का मंत्र जपा जाए तो तेजी से लाभ मिलता है। इस अवधि में किए गए धार्मिक कार्यों का अन्य समय की तुलना में दस गुना लाभ मिलता है। इस लेख में अधिमास के लिए कुछ अत्यंत कल्याणकारी मंत्रों की जानकारी दे रहा हूं।

बाधा मुक्ति और पाप नाश के लिए

नमो स्तवन अनंताय सहस्त्र मूर्तये, सहस्त्रपादाक्षि शिरोरु बाहवे। सहस्त्र नाम्ने पुरुषाय शाश्वते, सहस्त्रकोटि युग धारिणे नमः।।

मंत्र का फल व देवता : इसका जप करने से बाधाएं दूर होती हैं। पाप कटते हैं और जन्मजन्मांतर के चक्र से मुक्ति मिलती है। इसका जप भगवान विष्णु और शिव दोनों के लिए किया जा सकता है।

जप विधि : सुबह स्नान के बाद साफ स्थान पर बैठें। फिर इच्छानुसार भगवान विष्णु या शिव की पूजा करें। फिर उनका ध्यान करते हुए एक माला (108) मंत्र का जप करें। जप के बाद कम से कम एक जरूरतमंद को दान अवश्य दें।

बीमारी और आर्थिक समस्या निवारण के लिए

ऊं हूं विष्णवे नमः

रोग नाश के लिए

जन्मजन्मांतर पापं व्याधिरूपेण बाधते। तच्छांतिरौषधप्राशैर्जपहोमसुरार्चनैः।।

जप विधि : रोग, समस्या, क्लेश नाश के लिए कभी भी या कहीं भी जप कर सकते हैं। आवश्यकता सिर्फ पवित्रता का ध्यान रखने की है। आफिस में हों तो जप से पहले जूते-उतारकर गंगा जल छिड़क लें। घर में हाथ-पैर धोकर किसी साफ स्थान पर जप कर सकते हैं।

अधिमास : धार्मिक कार्य व आध्यात्मिक उत्थान का सुनहरा मौका

समस्यामुक्ति व आध्यात्मिक शक्ति के लिए

1-कृष्णाय वासुदेवाय हरये परमात्मने। प्रणत क्लेशनाशाय गोविंदाय नमो नमः।।

2-श्री राम, जय राम, जय जय राम।

3-ऊं नमो नारायण।

4-श्रीमन नारायण नारायण हरि हरि।

5-ऊं नारायणाय विद्महे, वासुदेवाय धीमहि। तन्नो विष्णुः प्रचोदयात।

6शांताकारं भुजगशयनं पाद्मनाभं सुरेशम्। विश्वाधारं गगनसदृशं मेघवर्णं शुभांगम्।।

लक्ष्मीकांतं कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यम्। वंदे विष्णुं भवभयहरं सर्वलोकैकनाथम्।।

मंत्र जप विधि : उपरोक्त मंत्रों में से किसी का भी पूरे अधिमास जप करें। सुबह स्नान के बाद प्रतिदिन कम से कम एक माला जप उचित होगा। एक सप्ताह में ही इसका सकारात्मक असर दिखना शुरू हो जाएगा। इसी कारण से अधिमास को समस्यामुक्ति व आध्यात्मिक शक्ति जगाने का सुनहरा मौका कहा जाता है।

दरिद्रनाश व धन प्राप्ति के लिए

ऊं ह्रीं ह्रीं श्रीं लक्ष्मी वासुदेवाय नमः।

मंत्र जप विधि : लक्ष्य पाने तक प्रतिदिन सुबह नहाने के बाद पूजा स्थान में लक्ष्मी और विष्णु की पूजा के बाद 11 माला मंत्र का जप करने पर आर्थिक संकट दूर होता है।


प्रतिदिन स्मरणीय और उपयोगी मंत्र जो आपकी जिंदगी बदल देंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here